Home संगीतकार प्रकाश माली का जीवन परिचय – Prakash Mali Biography, Jivani, Family

प्रकाश माली का जीवन परिचय – Prakash Mali Biography, Jivani, Family

490
Prakash Mali Biography

आज के इस पोस्ट में हम आपको बताने वाले हैं प्रकाश माली के जीवन परिचय के बारे में, हम इस पोस्ट में आपको Prakash Mali Biography, Jivani, Family, Education, Career की शुरूआत के बारे में इस पोस्ट में आपको बताएंगे।

Prakash Mali Biography, Wiki

नाम प्रकाश माली
जन्म 23 अगस्त 1981
जन्म स्थान शिवकार, बलोतरा
पिता श्री बंसीलाल जी माली 
दादाजी केसाराम जी माली  
पत्नी भावना जी 
शादी 01 दिस्म्बर 2002
बच्चे हर्षित और लक्ष्यित
भाई गजेंद्र , महेंद्र 
शिक्षा बलोतरा बारमेर

Prakash Mali Social Media Account

Social Media Account Social Media IDSocial Media Follower
Instagram prakashmali_85181K
FaceBook prakash mali5.1 लाख
YoutubePrakash Mali Offical3.27 लाख

प्रकाश माली जीवन परिचय

राजस्थान के महान भजन सम्राट प्रकाश माली अपने भजनों के माध्यम से एक ऐसी प्रसिद्ध हासिल की, जिसके आज लाखों लोग भजन सुनने के लिए इकट्टा होते है। आज प्रकाश माली जी की आवाज को पूरे राजस्थान में ही नहीं, बल्कि पूरे विश्व में प्रसिद्धि हासिल है हाल ही में प्रकाश माली जी ने एक नेपाल के कार्यक्रम में भी भाग लिया था।

प्रकाश माली जी ने बचपन से ही संगीत की दुनिया में कदम रख दिया था। स्कूल में पढ़ाई के साथ-साथ यह संगीत के क्षेत्र में भी जुड़ गए। इन्होंने बचपन में काफी ज्यादा मुश्किलों का सामना भी किया, तब जाकर आज इतने उभरे हुए कलाकार के रूप में आज हमारे सामने है।  

प्रकाश जी माली के भजन आज के हमारे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भी कई बार सुने हैं तथा उनके भजनों की प्रशंसा भी की है हाल ही में प्रकाश माली जी की एक भजन को बाड़मेर में रिफाइनरी के उद्घाटन के समय में प्रधानमंत्री जी ने काफी पसंद किया, इस गीत का नाम – “चौकीदार चौकीदार हमें देश के चौकीदार” 

प्रकाश माली जन्म, परिवार, माता-पिता, शिक्षा, विवाह, घर

प्रकाश माली का जन्म 23 अगस्त 1981 बालोतरा के पास शिवकर गांव में हुआ था, जन्म के 4 वर्ष बाद ही यह बालोतरा शहर में आकर बस गए। प्रकाश माली जी के पिताजी का नाम  बंसीलाल जी माली और दादाजी का नाम केसाराम जी माली था। प्रकाश माली जी के दो भाई भी हैं जिनका नाम गजेंद्र जी परमार और महेंद्र जी परमार है।

प्रकाश माली जी की शिक्षा बालोतरा शहर में ही हुई, उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा इसी शहर बालोतरा से ही की, इसी समय इनकी भजन संध्या में काफी ज्यादा रूसी होने लगी और यह भजनों में भी जाने लगे। स्कूल में प्रार्थना के समय यह इस प्रार्थना को बड़े मन मुग्ध होकर गाते थे और काफी ज्यादा लीन हो जाया करते थे।  

प्रकाश माली का विवाह 1 दिसंबर 2002 को श्रीमती भावना जी के साथ में हो गया और आज उनके दो पुत्र भी है हर्षित और लक्षित

प्रकाश माली जी का घर बालोतरा शहर में बना हुआ है और इनके घर का नाम अनुकंपा है इनका घर दो मंजिला है पूरे घर में अच्छे तरीके से डेकोरेशन किया हुआ है इनके घर के पास में हरियाली के लिए झाड़ियां वगैरह भी लगी हुई है।  

प्रकाश माली कैरियर की शुरुआत

 प्रकाश माली ने अपने कैरियर की शुरूआत काफी संघर्षों से की, जब यह स्कूल में पढ़ाई करते थे उसी समय इनकी रूचि संगीत की तरफ काफी ज्यादा थी स्कूल की प्रार्थना में काफी ज्यादा रुचि लेते थे तथा इसी स्कूल की प्रार्थना को भी इतने साव से गाते थे। प्रकाश माली ने बचपन से ही संगीत की दुनिया में अपना कदम रख दिया था यह रात्रि में होने वाले जागरण और कार्यक्रमों में जाने लगे तथा उसमें काफी ज्यादा रुचि लेने लगे

धीरे-धीरे इन्होंने वाद्य यंत्र भी सीखना शुरू कर दिया जब भी भजन संध्या में जाते थे तो वहां पर वीणा, पेटी आदि बजाने की कोशिश करते थे और इसी तरीके से इन्हे ये बजने भी सीख लिया था इन्होंने अपने गायन कला में किसी को भी गुरु नहीं बनाया, हालांकि अब इनके गुरु है लेकिन जब इन्होंने इस क्षेत्र में अपना कदम रखा, तब इनके कोई भी गुरु नहीं थे। प्रकाश माली जी ने अपनी शिक्षा के साथ ही गायन मे भी राज्य स्तर तक प्रथम स्थान हासिल किए हुये है।

जब कभी भी अपने आसपास रात्रि में या दिन में भजन संध्या होती तो प्रकाश माली और भजन संध्या में जाने से कभी नहीं चूकते थे इसी तरीके से हमेशा भजन संध्या में जाकर भजनों का लुफ्त उठाया करते थे । जब इन्होंने 12वीं के बाद गायन की कला को चुना तो, इनके पिताजी ने उनका काफी ज्यादा विरोध किया था उस समय उनके पिताजी को भी ऐसा लगता था कि भजन संध्या में उनका कोई कैरियर नहीं बन सकता, क्योंकि उस टाइम गायक कलाकारों का कोई भी ज्यादा महत्व नहीं हुआ करता था फिर भी प्रकाश माली ने संघर्ष करके भजनों में जाना जारी रखा। एक बार इनके पिताजी ने इनको काफी ज्यादा डाटा भी था इस कारण वो अपने गांव अपने दादाजी के पास साइकिल से 100 किलोमीटर की दूरी तय करके चले गए थे।

जब पहली बार प्रकाश माली किसी स्टूडियो में भजन गाने के लिए गए, तब उन्होंने प्रकाश माली को स्टूडियो से बाहर निकाल दिया और कह दिया कि आपकी आवाज सही नहीं है लेकिन इसके बाद इनके गानो को बालोतरा शहर में ही मधुर कैसेट के द्वारा निकाला गया। लेकिन यह गाने बालोतरा शहर तक ही सीमित रहे।

इसके कुछ समय बाद इन्होंने राजस्थान का प्रसिद्ध गीत जैसल धाड़वी और महाराणा प्रताप के गीत से प्रसिद्धि हासिल की और पूरे राजस्थान में प्रसिद्ध हो गए। इसके बाद लगातार इनके कई सारे गाने अलग-अलग म्यूजिक कंपनियों के द्वारा लाए गए और यह गाने पूरे राजस्थान में प्रसिद्ध हो गई।

प्रकाश माली ने हमेशा अपने भजनों में गाय, गरीबी और राष्ट्र भक्ति के गीतों को गाया है प्रकाश माली एक राष्ट्रभक्त भी है और यह देश के लिए हमेशा गाते आ रहे हैं इन्होंने कई ऐसे भजन जागरण भी बिल्कुल फ्री में यह है इसमें राष्ट्र का हीत हो।

इसके बाद प्रकाश माली हमेशा से एक अच्छे से अच्छा भजन गाते आ रहे हैं जब भी इनके भजन कहीं होते हैं तो लाखों में लोगों की भीड़ उमड़ आती है आज प्रकाश माली राजस्थान के ही नहीं बल्कि पूरे भारत में अपनी गायन कला से प्रसिद्धि हासिल कर सके 

 

प्रकाश माली जी की प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी से मुलाक़ात

पहली बार प्रकाश माली की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से मुलाकात गुजरात में सूरत शहर में हुई, जब सूरत शहर में महाराणा प्रताप की जयंती पर एक समारोह आयोजित किया गया, इस समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी भी आमंत्रित थे और यहीं पर प्रकाश माली जी भी आए हुए थे इसी समय प्रकाश माली जी अपने भजन की मंच से सरिता बहा रहे थे कि नरेंद्र मोदी जी उनके भजनों के दीवाने हो गए, इसके बाद मोदी जी ने स्वयं प्रकाश माली जी से कहा कि आप अपने भजनों की पूरी एल्बम CD दे सकते हैं इसी तरीके से प्रधानमंत्री जी मोदी की मुलाकात प्रकाश माली से सूरत में पहली बार हुई।

 इसके बाद दूसरी बार जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी बाड़मेर में रिफाइनरी परियोजना के उद्घाटन समारोह में आए हुए थे उस समय उनकी मुलाकात प्रकाश माली जी से हुई, यहां पर प्रकाश माली जी ने प्रधानमंत्री जी के लिए एक गीत लिखा था इसका नाम था चौकीदार चौकीदार मैं हूं देश का चौकीदार यहां पर भी प्रधानमंत्री मोदी जी ने प्रकाश जी मालिका स्वागत किया। और प्रकाश माली जी ने इस गीत से उनका शानदार स्वागत किया।

प्रकाश माली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक बड़े फैन के रूप में जाने जाते हैं क्योंकि प्रकाश माली जी देश के हित में अपने भजन गाते हैं और यह एक राष्ट्रभक्त है जो अपने देश में गरीबी दीन दुखी आदमी को ऊपर उठाने में अपने भजनों के माध्यम से देश को सहयोग कर रहे हैं।

आपको हमारे द्वारा लिखी गयी Prakash Mali Biography in Hindi  पोस्ट अच्छी लगी हो तो, आप हमारे Hindi Biography 2021 वेबसाइट की सदस्यता लेने के लिए Right Side मे दिखाई देने वाले Bell Icon को दबाकर Subscribe जरूर करे।  

3 COMMENTS

  1. Prakash ji mali shandar gayak hai.
    Aapki post bhi shandar hai, prakash mali ji ki full biography hai .

    Thank you bhai

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here