आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत का जीवन परिचय – RSS chief Mohan Bhagwat Biography in Hindi

मोहन भागवत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक है यह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ “आरएसएस” में मार्च 2009 में केएस सुदर्शन के उत्तराधिकारी के रूप में चुने गए। मोहन भागवत को व्यवहारिक नेता के रूप में भी देखा जाता है Mohan Bhagwat देश की सबसे ताकतवर लोगों में से एक माने जाते हैं इनके कई बयान सुर्खियों में भी रहते हैं।
मोहन भागवत का पूरा परिवार आरएसएस से जुड़ा रहा, इस  कारण बचपन से ही यह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ गई। वर्ष 1975 में जब इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए आपातकाल से देश जूझ रहा था उसी समय इन्होंने अपनी पशु चिकित्सा की पढ़ाई छोड़ कर पूर्ण रूप से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को ज्वाइन कर लिया, इसके बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में कई अलग-अलग पदों पर अपना कार्यभार संभाला और वर्तमान समय में यह संघ के सरसंघचालक है।

आज के इस पोस्ट में हम आपको बताएँगे मोहन भागवत की जीवनी, आयु, परिवार, पत्नी, शिक्षा, जाति,आय, संपत्ति, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ तक की जर्नी के बारे में बताएंगे।

Table of Contents

Mohan Bhagwat Biography in Hindi

पूरा नाममोहन भागवत
जन्म11 सितम्बर 1950
उम्रआयु 72
जन्म स्थानचन्द्रपुर-मुम्बई (महाराष्ट्र)
व्यवसायसरसंघचालक (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख)
जातिहिन्दू
धर्मसनातन

        Mohan Bhagwat Social Media Accout

Social Media NameUser ID
InstagramRSS Instagram
FaceBookRSS Facebook
Websitehttps://www.rss.org/
TwitterRSS Twitter

Mohan Bhagwat Birth, Place, Family

डॉ मोहन भागवत का जन्म करहङे ब्राह्मण मराठी परिवार में 11 सितंबर 1950 को चंद्रपुर महाराष्ट्र में हुआ। इनका वास्तविक नाम मोहन राव मधुकर राव भागवत है इनका पूरा परिवार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आरएसएस से जुड़ा रहा। मोहन भागवत के पिता का नाम मधुकरराव भागवत था जो चंद्रपुर क्षेत्र के अध्यक्ष और गुजरात के प्रांत प्रचारक थे  Mohan Bhagwat अपने भाई बहनों में सबसे बड़े हैं इनके छोटे भाई चंद्रपुर RSS. इकाई के अध्यक्ष भी हैं मोहन भागवत की माता जी का नाम मां मालती है जो आरएसएस में महिला विंग की सदस्य रही।
इंटरनेट पर बहुत से लोग मोहन भागवत की पत्नी के बारे में जानना चाहते हैं और  मोहन भागवत के कितने बच्चे हैं इसके बारे में भी इंटरनेट पर काफी ज्यादा सर्च किया जाता है हालांकि मोहन भागवत अविवाहित है Mohan Bhagwat के कोई बच्चे नहीं है।

पिता का नाममधुकरराव भागवत
माता का नाममालतीबाई भागवत
पत्नी का नामअविवाहित
भाई का नामतीन भाई
बहन का नामएक बहन

Mohan Bhagwat Education, Qualification

मोहन भागवत ने चंद्रपुर के लोकमान्य तिलक विद्यालय से अपनी स्कूल की शिक्षा और जनता कॉलेज चंद्रपुर से अपनी बीएससी प्रथम वर्ष की शिक्षा प्राप्त की। उसके बाद पंजाबराव कृषि विद्यापीठ अकोला से पशु चिकित्सा और पशुपालन में स्नातक की उपाधि प्राप्त। 

वर्ष 1975 मे  इंदिरा गांधी द्वारा लगाई गई आपातकाल की स्थिति से देश से जूझ रहा था तो उस समय Mohan Bhagwat अपनी पशु चिकित्सा की पढ़ाई को अधूरा छोड़कर संघ के पूर्णकालिक स्वयंसेवक बन गए।

School ( स्कूल )लोकमान्य तिलक विद्यालय
College ( कॉलेज )सरकारी पशु चिकित्सा कॉलेज, नागपुर
Degree ( डिग्री )पशु चिकित्सा विज्ञान और पशुपालन में स्नातक

Mohan Bhagwat RSS Journey

मोहन भागवत का पूरा परिवार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ा हुआ था इस कारण बचपन से ही मोहन भागवत आरएसएस से जुड़े रहे। उन्होंने अपनी शिक्षा प्राप्त करने के साथ ही 1975 में इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए आपातकाल के बाद अपनी पशु चिकित्सा के पाठ्यक्रम को अधूरा छोड़कर संघ के पूर्णकालिक स्वयंसेवक बन गए। 

आपातकाल के दौरान भूमिगत रूप से कार्य करने के बाद Mohan Bhagwat 1977 में महाराष्ट्र में अकोला के प्रचारक बने और संगठन के कार्य को आगे बढ़ाते हुए नागपुर और विदर्भ क्षेत्र में भी प्रचारक के रूप में कार्य किया

Untitled design 39

वर्ष 1998 में मोहन भागवत संघ के स्वयंसेवकों के शारीरिक प्रशिक्षण कार्यक्रम अखिल भारतीय प्रमुख बने और उन्होंने 1999 तक इस दायित्व को निभाया। इसी समय 1 वर्ष के लिए पूरे देश में पूर्ण रूप से कार्य कर रहे संघ के सभी प्रचारकों का प्रमुख बनाया गया।

वर्ष 2000 में जब राजेंद्र सिंह और हो. वे. शेषाद्री स्वास्थ्य संबंधी कारणों से संघ प्रमुख और सरकार्यवाह का दायित्व छोड़ने का निर्णय किया, तब केएस दर्शन को संघ का नया प्रमुख चुना गया और Mohan Bhagwat को 3 वर्षों के लिए संघ के सरकार्यवाह बनाया गया।

21 मार्च 2009 को मोहन भागवत को संघ के सरसंघचालक मनोनीत हुए तथा उन्होंने भारत और विदेशों में भ्रमण किया। मोहन भागवत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख चुने जाने वाले सबसे कम आयु के व्यक्तियों में से एक है।

जून 2015 में विभिन्न इस्लामिक आतंकवादी संगठनों में से एक उच्च खतरे की धारणा के कारण भारत सरकार ने केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल को Mohan Bhagwat को 24 घंटे Z Plus और  VVIP  सुरक्षा कवच प्रदान कर सुरक्षा दी आज के समय में मोहन भागवत सबसे सुरक्षित भारतीय में से एक है। 
इसके बाद वर्ष 2017 में मोहन भागवत को भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा राष्ट्रपति भवन में आधिकारिक रूप से आमंत्रित किया गया। Mohan Bhagwat पहले आर एस एस प्रमुख है जिन्हे राष्ट्रपति भवन में आधिकारिक तौर पर आमंत्रित किया गया।

मोहन भागवत का दृष्टिकोण

मोहन भागवत हिन्दुत्व के विचार को आधुनिकता के साथ आगे ले जाने की बात कहते है। भागवत ने बदलते समय के साथ चलने पर बल दिया है। लेकिन इसके साथ ही संगठन का आधार समृद्ध और प्राचीन भारतीय मूल्यों में दृढ़ बनाए रखा है। Mohan Bhagwat कहते हैं कि इस प्रचलित धारणा के विपरीत कि संघ पुराने विचारों और मान्यताओं से चिपका रहता है, इसने आधुनिकीकरण को स्वीकार किया है और इसके साथ ही यह देश के लोगों को सही दिशा भी दे रहा है।

आपको हमारे द्वारा लिखी गयी RSS chief Mohan Bhagwat Biography in Hindi  पोस्ट अच्छी लगी हो तो, आप हमारे Hindi Biography 2021 वेबसाइट की सदस्यता लेने के लिए Right Side मे दिखाई देने वाले Bell Icon को दबाकर Subscribe जरूर करे।

FAQ

मोहन भागवत के कितने बच्चे हैं

मोहन भागवत अविवाहित है

मोहन भागवत की पत्नी का नाम

मोहन भागवत अविवाहित है

आरएसएस का पूरा नाम क्या है

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

ये भी पढे :-

Previous articleसुहानी शाह जीवन परिचय – Suhani shah Biography in Hindi
Next articleकपिल मिश्रा जीवन-परिचय – Kapil Mishra Biography In Hindi
मुझे सफल लोगों जीवन के बारे में जानना और लिखना पसंद है तथा इंटरनेट से पैसा कमाना अच्छा लगता है। मैं एक लेखक के साथ-साथ भारतीय YouTuber भी हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here