राठौड़ श्रावण की‌ जीवनी – Rathod Sravan Biography in Hindi

तेलंगाना आदिलाबाद जिला उटनुर मंडल के हिंदी ,तेलुगु भाषा के लेखक,कवियों में राठौड़ श्रावण एक है। हिंदी तेलुगु भाषी साहित्यिक सेवा करनेवाले जानेमाने बंजारा लेखक में Writer Rathod Sravan का नाम प्रसिध्द है। आदिलाबाद जिला जनजातीय समाज में साहित्य के माध्यम से आज के नवीन पीढ़ी के लिए ये प्रेरणादायक बने हुये है। लगभग 21 साल से साहित्य की सेवा में लगे रहे हैं। उन्होंने वर्ष 2013 में साहित्य के श्रेत्र में कदम रखा और कविता,निबंध, पुस्तक समिक्षा विधाओं में‌ विशेष प्रसिध्दी हासिल की। हिंदी प्रध्यापक सरकारि काँलेज उटनुर और जैनुर कालेज के प्रिन्सिपाल बि रहे। प्रस्तुत वे शासकीय कनिष्ट महाविध्यालय इद्रवेल्लि में हिंदी प्रध्यापक के रुप में कार्यरत हैं।

आज के इस पोस्टर में हम आपको बताएँगे लेखक राठौड़ श्रावण की जीवनी,आयु,परिवार,पत्नी,शिक्षा,जाति,करियर जर्नी,पुरस्कार ,सम्मान,रचनाएँ‌ के बारे‌ में बताएंगे।

Table of Contents

Rathod Sravan Biography in Hindi

पूरा नामराठौड़ श्रावण
जन्म21अगस्त 1972
उम्र51 वर्ष
जन्म स्थानसोनापुर, नारनुर,आदिलाबाद, तेलंगाना,भारत
प्रोफेसनहिंदी प्रध्यापक
धर्मभारतीय हिन्दू
उपाधिसाहिती प्रावीण्य
भाषाहिंदी,तेलुगु,मराठी,अंग्रेजी
विधाएँपुस्तक पठन, पुस्तक समीक्षक,संपादक, काव्य लेखन्

     Rathod Sravan Social Media Accout

Social Media NameUser ID
Instagramयहा क्लिक करें
FaceBookयहा क्लिक करें
Twitterयहा क्लिक करें
Phone Number9398761117
Email IDrathodsravan21@gmail.com

Rathod Sravan Birth, Place, Family

राठौड़ श्रावण का जन्म 21अगस्त 1972 में तेलंगाना के आदिलाबाद जिला स्थित नारनुर मंडल (तहसील) के निकट सोनापुर तांडे में एक सामान्य गरीब किसान परिवार में हुआ था। Rathod Sravan के पिता का नाम राठौड़ रतनसिंग ओर माता का नाम जिजाबाई है। पिताजी एक छोटे से कृषक थे ! उनके चार भाई और तिन बहन थी।
श्रावण जी खेती खलीहानी के कार्य मे पिता की मदत करते रहे। पढ़ाई करने बैठते तो किताबों में मौजूद सारी जानकारी को अपने मन में बिठाते थे। पढ़ाई करने की ईच्छा बहुत थी। अच्छी आदतों का विकास करता था। तन मन लगाकर पढ़ाई आसानि से करता था।

पिता का नाम (Father)राठौड़ रतनसिंग
माता का नाम (Mother)राठौड जिजाबाई
पत्नी का नाम (Wife)राठौड विजय बाई
बच्चे (Son)डाँ. राठोड़ कार्त्तीक नायक, राठौड़ हृत्तिक नायक, राठौड़ सात्विक नायक

Rathod Sravan Education, Qualification

राठौड़ श्रावण गरिब परिवार में जन्म हुआ । लेकिन अच्छी पढ़ाई कर के में आंध्रप्रदेश लोक सेवा आयोग में जुनियर लेक्चरर पद हासिल कर के अपने माता पिता का नाम रौशन किया। उनकी प्रारम्भिक शिक्षा जनजाती एजेन्शी क्षेत्र के सरकारी आश्रम पाठशाला जैनुर मंडल के अंतर्गत पानापठार में हुई। उन्नत शिक्षा नारनुर के निकट भिमपुर गांव में हुई थी। बचपन से ही आप कुशाग्र बुध्दि छात्र थे। 1989 मे बेल्लमपल्ली रेसिडेंशियल विध्यालय मे Rathod Sravan ने प्रथम श्रोणी में एसएससी की परीक्षा पास की। 1991 में माध्यमिक शिक्षा इण्टर पास करने के बाद नियमित सरकारी पाठशाला में आध्यापक बने । सरकारी नैकरी करते हुये। 1995 उस्मानिय विक्ष्वविध्यालय में बीए की परीक्षा ,1997 बीएड की परीक्षा,हिंदी प्रचार सभा हैदराबाद से हिंदी विद्वान परीक्षा प्रथम खण्ड, द्वितीय खण्ड प्रथम श्रेणी में पास की। और 2004 एमए की परीक्षा उत्तीर्ण की।

राठौड़ श्रावण उस्मानिय विश्वविध्यालय हैदराबाद से स्नातक होने के बाद एम.ए परीक्षा उत्तीर्ण कीया। हिंदी भाषा साहित्य में विशेष रुचि होनेके कारण Rathod Sravan भारतीय विश्वविध्यालय में प्रोफेसर बनने के लिए विश्व विद्यालयीन अनुदान आयोग द्वारा आयोजित राष्ट्रीय पात्रता परिक्षा युजीसी-नेट (UGU-NET Universuty Grants Commission,National Eligibility Test ) परीक्षा उत्तिर्ण की। उस्मानिय विक्ष्वविध्यालय पीएचडी (P.hD) के उच्चतम अभ्यास क्रम के लिए दाखिला पाकर, स्वास्थय बिगड़ने के कारण पि एच डि का अभ्यास क्रमआधुरा छोड़ दिया । आप आदिलाबाद जिल्ला हिंदी संरक्षण समिति जिल्ला मुख़्य सचिव के रूप में काम किया ।उटनुर साहित्य मंच के आध्यक्ष रहे। काव्य प्रेमी साहित्य में अभिरुचि होने के नाते आप हिंदी और लेलुगु भाषा में लेखन कार्यकरते हैं। वर्तमान में ये उटनुर आदिलाबाद जिल्ला तेलंगाना में रहते है।

School ( स्कूल )बेल्लमपल्ली रेसिडेंशियल विध्यालय
College ( कॉलेज )उस्मानिय विश्वविध्यालय हैदराबाद
Degree ( डिग्री )एमए.बीएड‌, यूजीसी नेट ( पीएचडी)

राठौड़ श्रावण का आजीविका (Rathod Sravan Career Journey)

राठौड़ श्रावण आदिलाबाद जिल्ले के शासकीय कनिष्ठ माहाविध्यालय में हिंदी प्रध्यापक के रुप में कार्यारथ है। साहित्य में आभिरूचि होने के कारण हिंदी,तेलुगु भाषा‌ में रचना करने लगे। 2017-2018 दो साल उटनुर साहिती मंच के आध्यक्ष रहे। आदिलाबाद जिल्ला बंजारा लेखक संघ के गौरव सलहादार के रुप में कार्यरथ है। Rathod Sravan ने साहित्यिक सेवा के माध्यम से बंजारा समाज की संस्कृति जीवन पद्धति,आचार विचार,रीति रिवाज रहन सहन इत्यादी भावनात्मक संबंधी विचार विकसित करते हुये रचना के माध्यम से समाज तक पहुचाने का प्रयत्न कररहे है। आज तक तीन सौ से अधिक लगु कविताएँ, पुस्तक समीक्षा, निबंध लिखा चुके है।

राठौड़ श्रावण का साहित्य में योगदान (Rathod Sravan Work in Literature)

राठौड़ श्रावण ने हिंदी,तेलुगु साहित्य मे अपना अमूल्य योगदान दिया है। हिंदी में निबंध ,पुस्तक समिक्षा, और तेलुगु में स्वतंत्रता सेनानी वीरों का गौरव करते हुये देसभक़्ति की किताब लिखी है। बंजारा समाज का एक सर्व सामान्य व्यक़्ति है न तो कोई बड़ा नेता हैं। न ही कोई बड़ा अधिकारी फिर भी समाज के लिए उत्कृष्ट कार्य करने वाले बानोत जालमसिंग की जीवन लिखकर‌ बंजारा समाज तक पहुचानेका कार्य किया । Rathod Sravan विशेष रुप से पेड़ पौधे लगाने का महत्व और उन से होने वाला लाभ और आज के समय में वृक्षारोपण बहुत जरूरी है। पर्यावरण सुरक्षित रहेगा तो हम भी सुरक्षित रहेंगे । कहते हुये तेलुगु भाषा की हारित हारम कु ‘मुत्यालहारम’ नाम से एक किताब के संपादक के रुप मे आदिलाबाद जिल्ला परिषद अध्यक्ष माननीय श्री राठौड जनार्धन जी के करकमलों से लोकार्पण किया ।

राठौड़ श्रावण की रचनाएँ (Books Written by Rathod Sravan)

(1) उनकी प्रथम रचना देशभक़्ति संबंधित है। आजादि का अम्रूत महोत्सव के शुभ अवसर पर भारत के 75 वर्ष पुरे होने पर प्रगतिशील भारत का गौरवशाली इतिहास स्वतत्रता सेनिनि
को यादगार करते हुये देशभक़्ति कविता नामक किताब का प्रकाशन 14 अगस्त 2021 में किया।
(2.) दुसरि रचना बंजारा समाज के महान व्यत्तित्वों में एक, समाज सुधारक,क़्रात्तिंकारी बंजारा जाति रत्न बानोत जालमसिंग पर किताब लिखकर तेलंगाना राज्य के जनजाति कल्याण और बाल कल्याण मंत्री श्रीमती सत्यवती राठौड़ के द्वारा 11 जनवरी 2022 नारनुर में आविष्कत किया गया ।
(3.) तिसरी पुस्तक भारत के प्रमुख त्यौहार, राष्ट्रीय पर्व पर पडुंगलु मुत्यलहारालु (त्यौहार और मैतिकी हार ) नामक किताब का आविस्करण जिल्ला माध्यमिक शिक्षा आधिकारि माननिय गो श्री रवींदर राव के हातौसे शासकिय कनिष्ट माहाविध्यलय इंद्रवेल्लि में 6 दिसेंबर 2022 में हुआ।
(4.) चौति किताब बंजारा भिस्मा आमरसिंग तिलावत किताब का आविस्करण अभी होने हुआ।
(5.) बंजारा संस्कुति किताब का प्रकाशित नहीं हुई श्री पोट्टी श्रीरामुलु तेलुगु वि‌श्वविध्यालय की अर्थिक मदत के लिए प्रयत्न जारि है।

राठौड़ श्रावण को पुरस्काय और सम्मान (Rathod Sravan Awards and honors)

Rathod Sravan को हिंदी, तेलुगु के विकास, प्रचार-प्रसाय काव्य प्रेमियों विविध संस्थान के गठन से साहित्य सेवा के लिए जिल्लादिस से सम्मानित किया गया है।

WhatsApp Image 2023 06 21 at 5.38.50 PM
  1. जिल्ला स्तर श्रोष्ठ आध्यापक पुरस्कार 1998
  2. जिल्ला स्तर श्रोष्ठ संसाधान व्यात्ति पुरस्कार 2005
  3. जिल्ला स्तर श्रोष्ठ प्रध्यापक पुरस्कार 2014
  4. कैतिक कवि मित्रा पुरस्कार 2020
  5. 5.अक्ष्रर रत्न पुरस्कार 2021
  6. साहिती प्रवीण्य पुरस्कार 2021
  7. उगादि पुरस्कार 2021
  8. साहिती सेवा स्पुर्ती पुरस्कार 2022
  9. संतसिरोमणी सेवालाल माहाराज कवि रत्न पुरस्कार 2022
  10. जल परिरक्ष्ण कवितोत्सव पुरस्कार 2023 इत्यादि पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। आदिलाबाद जिला के पंच जिला कलेक्टर माननिय अहम्मद बाबु,IAS,आशौक IAS राहुल रा IAS, नमिन मिताल IAS, सिक्ता पट्नायक IAS से सम्मानित हुये।

आपको हमारे द्वारा लिखी गयी Rathod Sravan Biography in Hindi  पोस्ट अच्छी लगी हो तो, आप हमारे Hindi Biography 2021 वेबसाइट की सदस्यता लेने के लिए Right Side मे दिखाई देने वाले Bell Icon को दबाकर Subscribe जरूर करे।

ये भी पढे :-

Previous articleमहारानी लक्ष्मी बाई का जीवन परिचय – Rani Laxmi bai biography in hindi
Next articleछत्रपति शिवजी महाराज का जीवन परिचय – Chhatrapati Shivaji Maharaj Jivani in Hindi
मुझे सफल लोगों जीवन के बारे में जानना और लिखना पसंद है तथा इंटरनेट से पैसा कमाना अच्छा लगता है। मैं एक लेखक के साथ-साथ भारतीय YouTuber भी हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here